आखिर बॉलीवुड में कैसे शूट किये जाते हैं Intimate Scenes पढ़िए पूरी खबर

दिलचस्प

बॉलीवुड में आये दिन कोई न कोई कंट्रोवर्सी हो जाती हैं। हाल ही में तापसी पन्नू की पिक्चर “हसीन दिलरुबा” काफी चर्चा में बनी हुई है। फिल्म में तापसी ने विक्रांत मैसी और हर्षवर्धन के साथ कुछ आपत्तिजनक सीन्स को किया है। क्या हैं माजरा इस बॉलीवुड और उसकी अभिनेत्रियों का। 

इस बारे में तापसी कहती हैं – मुझे उम्मीद है कि मैं उन्हें सपोर्ट कर पायी क्योंकि वह लोग शूटिंग के दौरान बहुत सहमे हुए नजर आ रहे थ। वे जरूर सोच रहे होंगे की काफी प्रचलति अदाकारा के साथ उनको काम करने का मौका मिल रहा हैं। 

आज के समय इंडियन बॉलीवुड इंडस्ट्री  इंटिमेट सीन्स के मामले में वास्तविकता के बेहद पास पहुंच चुकी हैं। “मेड इन हेवन”, “फोर मोर शॉट्स” आदि फिल्मों ने बॉलीवुड को काफी लहजे तक पहुंचा दिया हैं। जो सीन्स टीवी में नहीं होती वो आपको OTT प्लेटफार्म पर मिल जायेंगे। 

ऐसे सीन्स की शूटिंग के लिए निर्देशक काफी सावधानी लेते हैं और वो इंटीमेसी स्पेशलिस्टों की सेवाएं भी लेते हैं तब जाकर एक मूवी शूट होती हैं। 

मसाला न्यूज़ की रिपोर्ट के मुताबिक, भारत की पहली  इंटीमेसी कोऑर्डिनेटर आस्था खन्ना कहती हैं, ‘‘तीन साल पहले से अब तक पश्चिम की सब्यता से भारत में काफी कुछ बदलाव आगये हैं। 

अब इंटिमेट सीन्स पहले फिल्म के एक्टर्स द्वारा वर्कशॉप करना, शूटिंग के लिए कुछ ख़ास और कड़े नियम तैयार करना, कलाकारों की सहजता की सीमा का पता लगाना अपोजिट जेंडर का भी ख्याल रखना ऐसा उनको ध्यान देना होता हैं। 

खन्ना कहती हैं, ”कलाकारों की आपस में  एक केमिस्ट्री बनाई जाती है और वह तभी बनती हैं जब सारे एक दूसरे को भली भाँती जानते हों .’’

वहीं Producer और इंटीमेसी डिजाइनर नेहा व्यास कहती हैं, ‘‘मुझे लगता हैं सेट पर कलाकारों के लिए सुरक्षित माहौल बनाने की जरूरत हैं तभी ये सब चीज़ें संभव हो पाती है। 

डायरेक्टर्स भी अब कई  कदम उठा रहे है। फिल्म निर्माता अलंकृता श्रीवास्तव और सिनेमाटोग्राफर जय ओझा ने फिल्म मेड इन हीवेन की शूटिंग के दौरान कलाकारों का आपसे में मेल जॉल और विशवास बढ़ाया गया था तभी वह शूटिंग कर पाए। 

मार्गरीटा विद ए स्ट्रा की शूटिंग से पहले निर्देशक शोनाली ने बता दिया था, कि उनके कलाकार खुद को ठीक  महसूस करें और बिलकुल भी डरे न।  

सेक्स सीन के बाद कलाकारों को कपडे पहनने के लिए दे दिए और कलाकारों के बीच जब बातचीत होती है तो उनसे उनकी हिचक भी  दूर हो जाती हैं।