how many SIM cards have been issued on your Aadhar card

यह वेबसाइट आपको बताएगी की आपके आधार कार्ड पे कितने सिम कार्ड जारी किये है।

ब्रेकिंग न्यूज़

दूरसंचार विभाग (DoT) ने हाल ही में TAFCOP नामक एक वेब पोर्टल लॉन्च किया है, जो धोखाधड़ी प्रबंधन और उपभोक्ता संरक्षण के लिए टेलीकॉम एनालिटिक्स का एक छोटा सा हिस्सा है, ताकि उपयोगकर्ताओं को यह पता लगाने में मदद मिल सके कि क्या कोई उनके आधार कार्ड के खिलाफ जारी किए गए सिम कार्ड का उपयोग उनकी जानकारी के बिना कर रहा है। यह पोर्टल उपभोक्ताओं को उनके पास मौजूद सिम कार्ड कनेक्शनों की संख्या के बारे में सूचित करेगा। यह उन्हें यह भी सूचित करता है कि क्या उनके नाम पर एसएमएस द्वारा नौ से अधिक एकाधिक कनेक्शन हैं। अगर उपभोक्ता को कोई नंबर मिलता है तो वो उपभोक्ता पोर्टल पर जा सकते हैं और उन नंबरों की रिपोर्ट कर सकते हैं जो अब उनके द्वारा उपयोग नहीं किए जा रहे हैं या जिनकी आवश्यकता नहीं है। इसके बाद दूरसंचार सेवा प्रदाता नंबरों को ब्लॉक या निष्क्रिय कर देंगे।

यदि किसी के पास नौ से अधिक कनेक्शन हैं, जो उनके नाम पर पंजीकृत नहीं हैं तो टेलीकॉम उपभोक्ता इस वेबसाइट पर सब्सक्राइब करने के बाद आवश्यक कार्रवाई कर सकते हैं। अनुरोध करने के बाद, उपयोगकर्ता अपने नंबर के साथ लॉग इन करके और “रिक्वेस्ट स्टेटस” बॉक्स में “टिकट आईडी रेफरी नंबर” दर्ज करके स्थिति की जांच कर सकते हैं।

जब कोई उपयोगकर्ता TAFCOP वेबसाइट खोलता है, तो उन्हें अपना मोबाइल नंबर दर्ज करना होता है और इसे वन टाइम पासवर्ड (OTP) से सत्यापित करना होता है। पोर्टल तब उन्हें उनकी आईडी पर पंजीकृत मोबाइल नंबरों की सूची दिखाता है। यदि उपयोगकर्ताओं को पोर्टल पर पंजीकृत नंबर मिलते हैं जो उनके नाम पर नहीं हैं, तो वे इस वेबसाइट पर एक रिपोर्ट दर्ज करवा सकते हैं। अगर वे उन नंबरों को बरकरार रखना चाहते हैं, तो उन्हें कोई कार्रवाई करने की जरूरत नहीं है।

एक बार उपयोगकर्ताओं द्वारा रिपोर्ट दर्ज करने के बाद, टेलीकॉम विभाग उन्हें एक एसएमएस भेजेगा जिसके माध्यम से उन्हें अपने नाम पर काम कर रहे मोबाइल कनेक्शनों की संख्या के बारे में पता चल जाएगा।

शिकायत करने के बाद उपभोक्ताओं को एक टिकट आईडी भी प्रदान की जाएगी जिससे वे कार्रवाई की प्रगति को ट्रैक कर सकते हैं। मोबाइल सिम कार्ड लेने और अवैध या गैरकानूनी उद्देश्यों के लिए उनका दुरुपयोग करने के लिए दूसरों द्वारा किसी के विवरण के अनधिकृत उपयोग की बढ़ती घटनाओं के मद्देनजर दूरसंचार विभाग ने अप्रैल में यह पोर्टल लॉन्च किया है।

TAFCOP की वेबसाइट इसके बारे में अपने वेब पेज पर उल्लेख करती है, “वेबसाइट को ग्राहकों को उनके नाम पर काम कर रहे मोबाइल कनेक्शनों की संख्या की जांच करने और उनके अतिरिक्त मोबाइल कनेक्शन को नियमित करने के लिए आवश्यक कार्रवाई करने में मदद करने के लिए विकसित किया गया है।”

गौरतलब है की यह सेवा अभी सिर्फ तेलंगाना और आंध्र प्रदेश के उपभोक्ताओं के लिए उपलब्ध है। भविष्य में हो सकता है की यह सेवा पुरे भारत में लागु हो जाये।

यह भी पढ़ें: लो कर लीजिये बात WhatsApp जैसा App लांच किया भारत सरकार ने पढ़िए पूरी खबर